बोनस शेयर क्या होता है ? क्या बोनस शेयर सच में बोनस होता हैं ?

बोनस शेयर क्या होता है ? क्या बोनस शेयर सच में बोनस होता है ? क्या बोनस शेयर मिलने से निवेश की राशि भी बढ़ जाती है ? इससे शेयर धारकों को क्या फायदा होता है ? फायदा होता भी है या नहीं, यदि होता है तो क्या फायदा होता है और कब होता है ?

आज बोनस शेयर से संबंधित ऐसे सारे सवालों के जवाब देने वाले हैं और बोनस शेयर होता क्या है ? What is Bonus Share in Hindi उदाहरण सहित विस्तार से बताने वाले हैं

फुल आर्टिकल एक नजर में

बोनस शेयर क्या होता है ? What is Bonus Share in Hindi

बोनस शेयर क्या होता है

चलिये अब सीधे टॉपिक पर आते हैं और शुरू करते हैं बोनस शेयर क्या होता है और इसका मतलब क्या होता है

 #1 बोनस शेयर का क्या मतलब है ?

जब कोई कंपनी बिजनेस से मुनाफा कमाती है तो इस मुनाफे में से कुछ हिस्सा रिज़र्व और सरप्लस के रूप में रख लेती है और जब यह रिज़र्व बहुत ज्यादा हो जाता है तो कंपनी नए शेयर जारी करती है और अपने शेयर धारकों को फ्री में दे देती है इस प्रकार मिले शेयरों को बोनस शेयर कहा जाता है

बोनस शेयरों के लिए शेयर धारकों को अलग से किसी भी प्रकार प्रकार का भुगतान नहीं करना पड़ता ये कंपनी की तरफ से बिल्कुल फ्री मिलते हैं बोनस शेयर इस आधार पर मिलते हैं कि पहले से आपके कितने शेयर हैं बोनस शेयर एक विशेष अनुपात में दिए जाते हैं जैसे 1:1 2:1 3:1 आदि

जैसे यदि कोई कंपनी 2:1 बोनस शेयर की घोषणा करती है तो इसका मतलब है अगर आपके पास पहले से इस कंपनी के 100 शेयर हैं तो आपको बोनस के रूप में 200 शेयर और मिलेंगे और बोनस के बाद आपके पास कुल 300 शेयर हो जाएंगे

#2 क्या बोनस शेयर मिलने से निवेश की राशि बढ़ जाती है ?

जब कंपनी बोनस शेयर जारी करती है तो शेयर धारकों के पास शेयरों की संख्या तो बढ़ जाती है लेकिन निवेश की राशि नहीं बढ़ती है क्योंकि शेयर का भाव उसी अनुपात में कम हो जाता है जिस अनुपात में बोनस शेयर दिए जाते हैं चलिए इसे एक उदाहरण से समझते हैं

मान लेते हैं एक कंपनी जिसका शेयर प्राइस 500 रुपये है 4:1 में बोनस शेयर की घोषणा करती है और आपके पास इसके 100 शेयर हैं तो इसका मतलब है आपको प्रति शेयर 4 शेयर के हिसाब से बोनस के रूप में 400 अतिरिक्त शेयर मिलेंगे और बोनस के बाद आपके पास कुल 500 शेयर हो जायेंगे

अब यह देखते हैं कि बोनस से पहले और बोनस के बाद आपकी निवेश की राशि पर क्या फर्क पड़ता है

बोनस से पहले निवेश की राशि

बोनस से पहले आपके पास कुल शेयर = 100

शेयर प्राइस = 500 रुपये

कुल निवेश = 100×500 = 50,000 रुपये

बोनस शेयर मिलने के बाद निवेश की राशि

बोनस के बाद आपके पास कुल शेयर = 500

बोनस के बाद शेयर प्राइस = 100 रुपये

कुल निवेश = 500×100 = 50,000 रुपये

अतः अब यह स्पष्ट हो गया है कि बोनस शेयर मिलने के बाद आपके निवेश की गई धनराशि में कोई बढ़त नहीं होती है वह उतनी ही रहती है जितनी कि बोनस शेयर मिलने से पहले थी

#3 बोनस शेयर देने के बाद कंपनी की फेस वैल्यू पर क्या फर्क पड़ता है ?

बोनस शेयर देने पर कंपनी की फेस वैल्यू पर कोई फर्क नहीं पड़ता है क्योंकि बोनस शेयर में कंपनी अपने रिज़र्व से नए शेयर जारी करती है अतः Bonus Share Issue करने के बाद भी कंपनी की फेस वैल्यू वही रहती है जो कि बोनस शेयर जारी करने से पहले होती है

किसी कंपनी की फेस वैल्यू एक अति महत्वपूर्ण वैल्यू होती है यह कंपनी वह प्राथमिक वैल्यू होती है जिस पर कंपनी शुरुआत में प्रोमोटरों को Share Issue करती है और इसका शेयर के बाजार भाव से कोई मतलब नहीं होता है कंपनी का बाजार भाव ऊपर नीचे होता रहता है लेकिन फेस वैल्यू वही रहती है

और खास बात ये कि डिविडेंट फेस वैल्यू पर ही मिलता है Dividend का कंपनी के बाजार भाव से कोई मतलब नहीं होता है

अगर कोई कंपनी जिसकी Face Value 10 रुपये है यह घोषणा करती है कि वह 200% Dividend देने वाली है तो इसका मतलब है कि आपको प्रति शेयर 10×200/100 = 20 रुपये डिविडेंड मिलेगा

#4 बोनस शेयर और स्टॉक स्प्लिट में क्या अंतर होता है ?

देखिए Bonus Share देने के बाद आपके पास शेयरों की संख्या तो बढ़ जाती है लेकिन आपकी निवेश की गई राशि उतनी ही रहती है इसी प्रकार से Stock Split के बाद भी आपके पास शेयरों की संख्या बढ़ जाती है और निवेश की राशि भी उतनी ही रहती है

लेकिन Bonus Share और Stock Split में फेस वैल्यू ही एक प्रमुख अंतर होता है जैसा कि अभी बताया है कि बोनस शेयर जारी करने के बाद भी कंपनी की Face Value वही रहती है जो कि बोनस शेयर जारी करने से पहले होती है लेकिन Stock Split में कंपनी की फेस वैल्यू कम हो जाती है

जिससे जब कंपनी Bonus Share के बाद भविष्य में डिविडेंड देती है तो आपको प्रति शेयर उतना ही ज्यादा डिविडेंड मिलता है जितनी आपके पास शेयरों की संख्या बढ़ी होती है लेकिन Stock Split के बाद आपको उतना ही डिविडेंड मिलता है जितना कि स्टॉक स्प्लिट होने से पहले मिलता है क्योंकि जिस अनुपात में स्टॉक स्प्लिट किया जाता है उसी अनुपात में कंपनी की फेस वैल्यू भी कम हो जाती है

अगर आप बोनस शेयर और स्टॉक स्प्लिट में अंतर को विस्तार से समझना चाहते हैं तो हमारी यह पोस्ट जरूर पढ़े

Bonus Share और Stock Split में क्या अंतर है ? Bonus Share Vs Stock Split in Hindi

IPO क्या होता है ? IPO में पैसे कैसे लगाये

#5 बोनस शेयर देने से कंपनी को क्या फायदा होता है ?

देखिए जब कंपनी अपने बिजनेस में लाभ अर्जित करती है तो वह उसका कुछ हिस्सा Reserve & Surplus के रूप में रख लेती है और जब यह रिज़र्व ज्यादा हो जाता है तो इससे तीन काम कर सकती है

  1. शेयर धारको को कैश डिविडेंड दे सकती है
  2. कंपनी की ग्रोथ में लगा सकती है
  3. बोनस शेयर जारी कर सकती है

चलिए अब बात करते हैं कि जब कंपनी अपने रिज़र्व से बोनस शेयर जारी करती है तो उसे क्या फायदे होते हैं

  1. Share Capital बढ़ जाता है – बोनस शेयर देने पर कंपनी का पैसा कंपनी में ही रहता है जिससे कंपनी की शेयर कैपिटल बढ़ जाती है जबकि कैश डिविडेंड देने पर वह पैसा सीधे शेयरधारको के Bank Account में चला जाता है
  2. Share Price Attractive हो जाता है – शेयर प्राइस कम हो जाता है जिससे यह आकर्षक लगता है और साथ ही किसी भी आम व्यक्ति के लिए इसे खरीद पाना आसान हो जाता है
  3. शेयर मार्केट में मजबूत छवि बनती है – अगर कोई कंपनी बोनस शेयर देती है तो इसका मतलब होता है कि वह अच्छा खासा लाभ अर्जित कर रही है जिससे शेयर मार्केट में उसकी मजबूत छवी बन जाती है
  4. शेयरधारकों का उत्साहवर्धन होता है – बोनस शेयर देने पर शेयर धारको का उत्साह बढ़ता है उन्हें यह एक पुरस्कार जैसा लगता है
  5. Stock Liquidity बढ जाती है – शेयरों की संख्या बढ़ जाती है जिससे लिकविडिटी भी बढ़ जाती है

#6 बोनस शेयर से निवेशकों को क्या फायदा होता है ?

जब कंपनी बोनस शेयर जारी करती है तो निवेशकों को तुरंत तो कोई फायदा नहीं होता है लेकिन बोनस शेयर जारी करने के बाद भविष्य में जब कंपनी डिविडेंड देती है तो निवेशकों को डिविडेंड के रूप में बहुत ज्यादा फायदा होता है

चलिये इसे एक उदाहरण से समझते हैं

मान लेते एक कंपनी Abc के आपके पास 200 शेयर हैं और यह प्रति शेयर 20 रुपये डिविडेंड देती है तो आपको कुल 200×20 = 4,000 रुपये डिविडेंड के रूप में मिलते हैं

लेकिन जब यह कंपनी 4:1 में बोनस शेयर जारी करती है तो अब आपके पास इस कंपनी के कुल 1000 शेयर हो जाते हैं जिससे अब आपको कुल 1000×20 = 20,000 रुपये डिविडेंड के रूप में मिलेंगे जो पहले के मुकाबले बहुत ज्यादा हैं

Dividend पाने के लिए शेयर कब खरीदे ?

#7 कंपनी बोनस शेयर जारी क्यों करती है ?

जब कंपनी का शेयर प्राइस बहुत ज्यादा हो जाता है तो एक आम निवेशक के लिए इसे खरीद पाना मुश्किल हो जाता है अतः कंपनी बोनस शेयर जारी कर देती है जिससे शेयर प्राइस कम हो जाता है और फिर एक आम निवेशक भी इसे आसानी से खरीद सकता है

इसके अलावा कंपनी अपना शेयर कैपिटल बढ़ाने के लिए, मार्केट और निवेशकों में अपनी मजबूत छवि बनाने के लिए और लिकविडिटी बढ़ाने के लिए भी बोनस शेयर जारी करती हैं

#8 यह कैसे पता करें कि अभी कौनसी कंपनियां बोनस शेयर देने वाली हैं ?

अगर आप किसी Particular Company के बारे में जानना चाहते हैं कि वह कंपनी बोनस शेयर कब देने वाली है तो उसकी ऑफिसियल वेबसाइट से यह जानकारी ले सकते हैं

लेकिन यदि आपको Randomly यह पता करना है कि अभी हाल ही के आने वाले समय मे कौन कौनसी कंपनी बोनस शेयर देने वाली हैं Which Companies are going to Declare Bonus Share तो आप यह जानकारी मनी कंट्रोल पर आसानी से पता कर सकते हैं जिसका लिंक नीचे दे रहे हैं

Bonus Share देने वाली Companies लिंक

#9 बोनस शेयर जारी करने की प्रोसेस क्या है ?

जब एक कंपनी बोनस शेयर देने की घोषणा करती है तो आपको तुरंत ही बोनस नहीं मिलते हैं बल्कि Bonus Share Declaration से लेकर Demat Account में Bonus Share Credit होने के बीच चार प्रमुख तारीख होती हैं जो इस प्रकार हैं

  1. Bonus Share Announcement Date – यह वह तारीख होती है जिस दिन कंपनी बोनस शेयर देने की घोषणा करती है
  2. Ex Bonus Date – यह वह तारीख होती है जिस दिन या इससे पहले आपको आपके पास कंपनी के शेयर खरीदे हुए होने चाहिए अगर पहले से आपके पास इस कंपनी के शेयर नहीं हैं और इस तारीख के बाद आप शेयर खरीदते हैं तो आपको बोनस शेयर नहीं मिलते हैं
  3. Bonus Record Date – यह वो तारीख होती है जिस दिन कंपनी अपने अपने रिकॉर्ड चेक करती है और लिस्ट बनाती है कि किस किस को बोनस शेयर दिए जाने हैं इस तारीख को जिस व्यक्ति के  डीमैट अकाउंट में शेयर होते हैं वे ही बोनस शेयर पाने के हकदार होते हैं
  4. Bonus Share Credit Date – यह वो तारीख होती है जिस दिन कंपनी आपके पास शेयरों की संख्या के आधार पर Bonus Share Ratio के हिसाब से आपके Demat Account में Bonus Share Credit कर देती है

#10 क्या बोनस शेयर देने वाली कंपनी के शेयर खरीदने चाहिए ?

अब तक आपको यह अच्छे से समझ आ गया होगा कि बोनस शेयर क्या होता है तो चलिए अब बात करते हैं कि क्या बोनस शेयर देने वाली कंपनी में निवेश करना चाहिए

तो देखिए अगर कोई कंपनी बोनस शेयर दे रही है तो इसका मतलब है कि वह आर्थिक रूप से मजबूत स्थिति में है और अच्छा मुनाफा भी कमा रही है लेकिन बिजनेस में उतार चढ़ाव आते रहते हैं प्रत्येक बिजनेस में कुछ ना कुछ रिस्क तो रहता ही है अतः यह बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि वह कंपनी भविष्य में भी आर्थिक रूप से मजबूत रहेगी और अच्छा खासा मुनाफा कमायेगी क्या पता उसका बिजनेस Peer Companies की तुलना में पिछड़ जाए

अतः सिर्फ यह देखकर कि अमुक कंपनी बोनस शेयर दे रही है उसमें निवेश ना करें पहले उसके बिजनेस को अच्छे से समझिए और अगर आप संतुष्ट हो जाये तो ही उसमें निवेश करें

सारांश

बोनस शेयर कंपनी की तरफ से उसके शेयर धारकों को दिए जाने वाले फ्री शेयर होते हैं जिन्हें कंपनी अपने रिज़र्व से जारी करती है और इसके लिए शेयर धारकों को किसी भी प्रकार का अतिरिक्त भुगतान नहीं करना पड़ता

बोनस शेयर मिलने से निवेशकों के पास शेयरों की संख्या तो बढ़ जाती है लेकिन निवेश की राशि नहीं बढ़ती है निवेश की राशि उतनी ही रहती है जीतनी की बोनस शेयर जारी करने से पहले होती है

अगर कोई कंपनी बोनस शेयर जारी करती है तो इसका मतलब होता है कि वह कंपनी आर्थिक रूप से मजबूत स्थिति में है और अच्छा खासा मुनाफा कमा रही है

बोनस शेयर मिलने से निवेशकों को तुरंत तो कोई फायदा नहीं होता है लेकिन जब कंपनी भविष्य में डिविडेंड प्रदान करती है तो निवेशकों को फायदा होता है क्योंकि फिर उन्हें पहले के मुकाबले उतना ही ज्यादा डिविडेंड मिलता है जितनी उनके पास शेयरों की संख्या बढ़ जाती है

बोनस शेयर जारी करने पर कंपनी की फेस वैल्यू पर कोई फर्क नहीं पड़ता है जबकि स्टॉक स्प्लिट के बाद कंपनी की Face Value उसी हिसाब से कम हो जाती है जिस अनुपात से Stock Split किया जाता है जो कि बोनस शेयर और स्टॉक स्प्लिट में प्रमुख अंतर होता है

इस पोस्ट में बोनस शेयर क्या होता है ? What is Bonus Share in Hindi क्या बोनस शेयर सच में बोनस होता है ? क्या बोनस शेयर मिलने से निवेश की राशि भी बढ़ जाती है ? इससे शेयर धारकों को क्या फायदा होता है ? फायदा होता भी है या नहीं, यदि होता है तो क्या फायदा होता है और कब होता है ? क्या बोनस शेयर देने वाली कंपनी में निवेश करना चाहिए ? यह सब विस्तार से बताया है

अगर बोनस शेयर से संबंधित अभी भी आपके कुछ सवाल हैं तो बेझिझक कमेंट में पूछ सकते हैं

यदि आपको हमारी पोस्ट बोनस शेयर क्या होता है ? क्या बोनस शेयर सच में बोनस होता हैं ? What is Bonus Share in Hindi अच्छी लगी तो इसे दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें

2 thoughts on “बोनस शेयर क्या होता है ? क्या बोनस शेयर सच में बोनस होता हैं ?”

  1. This is such a useful knowledgeable information for fresh investor. Please also provide us the information regarding the *date and rate of bonus share* when its credited in DMAT account.
    I have allotted 2 Bonus shares of Aarti Industries and 10 Bonus shares of PowerGrid Corp. I am bit confused about the rate of the bonus.

    Kindly help me.

    Reply
    • हितेश जी
      बोनस शेयर आपके पास पहले से कितने शेयर हैं इस आधार पर दिए जाते हैं और एक विशेष अनुपात में दिए जाते हैं जैसे यदि आपके किसी कंपनी के पहले से 100 शेयर हैं और वह कंपनी 1:4 बोनस शेयर की घोषणा करती है तो आपको प्रति 4 शेयर पर 1 बोनस शेयर के हिसाब से 25 शेयर और मिल जाते हैं और आपके पास कुल 125 शेयर हो जाएंगे डिविडेंड लेने के लिए शेयर कब खरीदे एक्स डिविडेंड डेट, डिविडेंड रिकॉर्ड डेट क्या होती है इसके लिए आप ये पोस्ट पढ़ सकते हैं
      https://moneyschoolhindi.com/when-buy-stock-to-get-dividend-in-hindi/

      Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!